क्या है चंद्र रेखा?

क्या है चंद्र रेखा?

प्रेम, कवित्व, कला, रहस्य; रेखा चंद्र की, यात्रा में
प्राप्ति अप्राप्ति स्पष्ट बताती शीतल, शांति मात्रा में ।

लम्बी और निर्दोष रेखाएं,
चंद्र-गुणों में कांति बढ़ाये ;
ग्रह-बिम्ब चंद्र पर खिला हो
उस मानव को मौज कराये ।

जीवन रेखा से निकली रेखा
जब चंद्र-क्षेत्र में आ जाती,
अंग शिथिल हो जाने की
यह खतरे की घंटी होती ।

केतु से चंद्र पर आती रेखा
यात्रा संग सम्पदा दिलाये
तन को, मन को पुष्ट करे;
पूर्वज संग बच्चे सहलाये ।

चंद्र से चलकर कोई रेखा शनि-बिम्ब तक आ जाये,
यह जीवन के किशोर काल में नया भाग्य ला हर्षाये ।

जय महाकाल !

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *