दिनांक ०२.०२.२०१८ का पंचांग एवं राशिफल

??????????
*********|| जय महाकाल||*********
??? अथ पंचांगम् ???

दिनाँक -: 02/02/2018,शुक्रवार
फाल्गुन, कृष्ण पक्ष
द्वितीया
“””””””””””””””””””””””””””””””””””(समाप्ति काल)

तिथि———–द्वितीया12:53:51 तक
पक्ष—————————–कृष्ण
नक्षत्र—————मघा12:58:42
योग————–शोभन19:16:19
करण————–गरज12:53:52
करण———–वाणिज23:40:27
वार—————————शुक्रवार
माह————————–फाल्गुन
चन्द्र राशि———————- सिंह
सूर्य राशि———————- मकर
रितु—————————-शिशिर
आयन———————उत्तरायण
संवत्सर———————हेम्लम्बी
संवत्सर (उत्तर)———–साधारण
विक्रम संवत—————–2074
विक्रम संवत (कर्तक)——-2074
शाका संवत——————1939
सूर्योदय—————–07:06:38
सूर्यास्त——————17:59:29
दिन काल—————10:52:50
रात्री काल————–13:06:36
चंद्रास्त——————08:23:15
चंद्रोदय——————20:04:36

लग्न—मकर 19°2′ , 289°2′

सूर्य नक्षत्र———————-श्रवण
चन्द्र नक्षत्र———————–मघा
नक्षत्र पाया———————रजत

??? पद, चरण ???

मू—-मघा 07:27:44

मे—-मघा 12:58:41

मो—-पूर्वाफाल्गुनी 18:31:37

टा—-पूर्वाफाल्गुनी 24:06:39

टी—-पूर्वाफाल्गुनी 29:43:56

??? ग्रह गोचर ???

ग्रह =राशी , अंश ,नक्षत्र, पद
=======================
सूर्य=मकर 19 ° 02, श्रवण ,3 खे
चन्द्र=सिंह 09 ° 43′ मघा ‘ 3 मू
बुध=मकर 08°18’ उ o षा o ‘4 जी
शुक्र=मकर 24 ° 49’ धनिष्ठा , 1 गा
मंगल=वृश्चिक 09°54 ‘अनुराधा ‘2 नी
गुरु=तुला 27 ° 19′ विशाखा , 3 ते
शनि=धनु 10 ° 52’ मूल ‘4 भी
राहू=कर्क 21 ° 10 ‘आश्लेषा , 2 डू
केतु=मकर 21 ° 10 ‘ श्रवण, 4 खो

???शुभा$शुभ मुहूर्त???

राहू काल 11:11 – 12:33अशुभ
यम घंटा 15:16 – 16:38अशुभ
गुली काल 08:28 – 09:50अशुभ
अभिजित 12:11 -12:55शुभ
दूर मुहूर्त 09:17 – 10:01अशुभ
दूर मुहूर्त 12:55 – 13:38अशुभ

?गंड मूल07:07 – 12:59अशुभ

?चोघडिया, दिन
चाल 07:07 – 08:28शुभ
लाभ 08:28 – 09:50शुभ
अमृत 09:50 – 11:11शुभ
काल 11:11 – 12:33अशुभ
शुभ 12:33 – 13:55शुभ
रोग 13:55 – 15:16अशुभ
उद्वेग 15:16 – 16:38अशुभ
चाल 16:38 – 17:59शुभ

?चोघडिया, रात
रोग 17:59 – 19:38अशुभ
काल 19:38 – 21:16अशुभ
लाभ 21:16 – 22:54शुभ
उद्वेग 22:54 – 24:33*अशुभ
शुभ 24:33* – 26:11*शुभ
अमृत 26:11* – 27:49*शुभ
चाल 27:49* – 29:28*शुभ
रोग 29:28* – 31:06*अशुभ

?होरा, दिन
शुक्र 07:07 – 08:01
बुध 08:01 – 08:55
चन्द्र 08:55 – 09:50
शनि 09:50 – 10:44
बृहस्पति 10:44 – 11:39
मंगल 11:39 – 12:33
सूर्य 12:33 – 13:27
शुक्र 13:27 – 14:22
बुध 14:22 – 15:16
चन्द्र 15:16 – 16:11
शनि 16:11 – 17:05
बृहस्पति 17:05 – 17:59

?होरा, रात
मंगल 17:59 – 19:05
सूर्य 19:05 – 20:11
शुक्र 20:11 – 21:16
बुध 21:16 – 22:22
चन्द्र 22:22 – 23:27
शनि 23:27 – 24:33
बृहस्पति 24:33* – 25:38
मंगल 25:38* – 26:44
सूर्य 26:44* – 27:49
शुक्र 27:49* – 28:55
बुध 28:55* – 30:01
चन्द्र 30:01* – 31:06

नोट– दिन और रात्रि के चौघड़िया का आरंभ क्रमशः सूर्योदय और सूर्यास्त से होता है। प्रत्येक चौघड़िए की अवधि डेढ़ घंटा होती है।
चर में चक्र चलाइये, उद्वेगे थलगार। शुभ में स्त्री श्रृंगार करे, लाभ में करो व्यापार॥
रोग में रोगी स्नान करे, काल करो भण्डार। अमृत में काम सभी करो, सहाय करो कर्तार॥
अर्थात- चर में वाहन, मशीन आदि कार्य करें। उद्वेग में भूमि सम्बंधित एवं स्थायी कार्य करें। शुभ में स्त्री श्रृंगार, सगाई व चूड़ा पहनना आदि कार्य करें। लाभ में व्यापार करें। रोग में जब रोगी रोग मुक्त हो जाय तो स्नान करें। काल में धन संग्रह करने पर धन वृद्धि होती है। अमृत में सभी शुभ कार्य करें।

?दिशा शूल ज्ञान——-पश्चिम
परिहार-: आवश्यकतानुसार यदि यात्रा करनी हो तो घी अथवा काजू खाके यात्रा कर सकते है।
इस मंत्र का उच्चारण करें-:
शीघ्र गौतम गच्छत्वं ग्रामेषु नगरेषु च। भोजनं वसनं यानं मार्गं मे परिकल्पय:।।

?अग्नि वास ज्ञान -:

15 + 2 + 6 + 1= 24 ÷ 4 = 0 शेष
पृथ्वी पर अग्नि वास हवन के लिए शुभ कारक है l

? शिव वास एवं फल -:

17 + 17 + 5 = 39 ÷ 7 = 4 शेष

सभायां = सन्ताप कारक

?भद्रावास एवं फल -:

रात्रि 23:45 से प्रारम्भ

पाताल लोक = धनलाभ कारक

???शुभ विचार???

कुग्रामवासः कुलहीनसेवा। कुभोजनं क्रोधमुखी च भार्या ।।
पुत्रश्च मूर्खो विधवा च कन्या। विनाग्निमेते प्रदहन्ति कायम्।।
।।चा o नी o।।

निम्नलिखित बाते व्यक्ति को बिना आग के ही जलाती है…
१. एक छोटे गाव में बसना जहा रहने की सुविधाए उपलब्ध नहीं।
२. एक ऐसे व्यक्ति के यहाँ नौकरी करना जो नीच कुल में पैदा हुआ है।
३. अस्वास्थय्वर्धक भोजन का सेवन करना।
४. जिसकी पत्नी हरदम गुस्से में होती है।
५. जिसको मुर्ख पुत्र है।
६. जिसकी पुत्री विधवा हो गयी है।

??दैनिक राशिफल??

देशे ग्रामे गृहे युद्धे सेवायां व्यवहारके। नामराशेः प्रधानत्वं जन्मराशिं न चिन्तयेत्।।
विवाहे सर्वमाङ्गल्ये यात्रायां ग्रहगोचरे। जन्मराशेः प्रधानत्वं नामराशिं न चिन्तयेत्।।

?मेष
भागदौड़ रहेगी। विवाद से बचें। क्लेश होगा। पुराना रोग उभर सकता है। दु:खद समाचार मिल सकता है। जीवनसाथी के स्वास्थ्य की चिंता रहेगी।

?वृष
प्रयास सफल रहेंगे। मान-सम्मान मिलेगा। धन प्राप्ति सुगम होगी। शत्रु सक्रिय रहेंगे। स्वास्थ्य कमजोर रहेगा, धैर्य रखें।

?मिथुन
फालतू खर्च होगा। पुराने मित्र व संबंधियों से मुलाकात होगी। शुभ समाचार मिलेंगे। व्यवसाय ठीक चलेगा। धनलाभ होगा।

?कर्क
जीवनसाथी के स्वास्थ्य की चिंता रहेगी। व्यावसायिक यात्रा सफल रहेगी। अप्रत्याशित लाभ होगा। उन्नति होगी।

?सिंह
पुराना रोग उभर सकता है। लेन-देन में सावधानी रखें। व्ययवृद्धि होगी। कर्ज लेना पड़ सकता है। व्यावसायिक यात्रा सफल रहेगी।

??कन्या
संतान की चिंता रहेगी। बकाया वसूली के प्रयास सफल रहेंगे। यात्रा, निवेश व नौकरी मनोनुकूल रहेंगे। अप्रत्याशित लाभ हो सकता है।

तुला
विरोध होगा। स्वास्थ्य का पाया कमजोर रहेगा। नई योजना बनेगी। मान-सम्मान मिलेगा। धन प्राप्ति सुगम होगी।

?वृश्चिक
विवेक का प्रयोग करें। पूजा-पाठ में मन लगेगा। कोर्ट व कचहरी के कार्य अनुकूल रहेंगे। धनार्जन होगा। वाणी पर नियंत्रण रखें।

?धनु
भय, पीड़ा, चिंता व तनाव का माहौल रहेगा। चोट, चोरी व विवाद से हानि संभव है। जोखिम न लें। पुराना रोग उभर सकता है।

?मकर
विवाद न करें। बेचैनी रहेगी। जीवनसाथी से सहयोग मिलेगा। कानूनी बाधा दूर होगी। लाभ होगा। प्रसन्नता रहेगी।

?कुंभ
लेन-देन में सावधानी रखें। वस्तुएं संभालकर रखें। भूमि व भवन संबंधी बाधा दूर होगी। उन्नति होगी। शत्रु परास्त होंगे।

?मीन
कुबुद्धि हावी रहेगी। पार्टी व पिकनिक का आनंद मिलेगा। विद्यार्थी वर्ग सफलता हासिल करेगा। लाभ होगा। फालतू खर्च होगा।

?आपका दिन मंगलमय हो?
?????????

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

code