आज का राशिफल और पंचांग २१.०१.२०१८

??????????
***|| जय महाकाल ||***
??? अथ पंचांगम् ???

दिनाँक -: 21/01/2018,रविवार
माघ , शुक्ल पक्ष
चतुर्थी
“””””””””””””””””””””””””””””””””(समाप्ति काल)

तिथि————-चतुर्थी15:33:23 तक
पक्ष—————————–शुक्ल
नक्षत्र—–पूर्वाभाद्रपदा31:05:36
योग————वरियान11:15:55
करण———विष्टि भद्र15:33:23
करण—————भाव28:03:12
वार—————————रविवार
माह——————————माघ
चन्द्र राशि——– कुम्भ24:44:45
चन्द्र राशि————————मीन
सूर्य राशि———————- मकर
रितु—————————-शिशिर
आयन———————उत्तरायण
संवत्सर———————हेम्लम्बी
संवत्सर (उत्तर)———–साधारण
विक्रम संवत—————–2074
विक्रम संवत (कर्तक)——-2074
शाका संवत——————1939

वृन्दावन
सूर्योदय—————–07:11:22
सूर्यास्त——————17:49:51
दिन काल—————10:38:28
रात्री काल————–13:21:15
चंद्रोदय——————09:47:56
चंद्रास्त——————21:40:23

लग्न—-मकर6°51′ , 276°51′

सूर्य नक्षत्र—————-उत्तराषाढा
चन्द्र नक्षत्र————-पूर्वाभाद्रपदा
नक्षत्र पाया———————ताम्र

??? पद, चरण ???

से—-पूर्वाभाद्रपदा 11:57:08

सो—-पूर्वाभाद्रपदा 18:21:54

दा—-पूर्वाभाद्रपदा 24:44:45

दी—-पूर्वाभाद्रपदा 31:05:36

??? ग्रह गोचर ???

ग्रह =राशी , अंश ,नक्षत्र, पद
=======================
सूर्य=मकर 05°51 उ o षा o,4 जी
चन्द्र=कुम्भ 20° 57’पू o भा o’ 1से
बुध=धनु 19 ° 46 ‘ पू o षा o ‘ 2 धा
शुक्र=मकर 09 ° 47’ उo षा o 4 जी
मंगल=वृश्चिक02 ° 35 ‘विशाखा ‘4 तो
गुरु=तुला 25 ° 47 ‘ विशाखा , 2 तू
शनि=धनु 09 ° 30’ मूल ‘3 भा
राहू=कर्क 21 ° 58 ‘आश्लेषा , 2 डू
केतु=मकर 21 ° 58 ‘ श्रवण, 4 खो

???शुभा$शुभ मुहूर्त???

राहू काल 16:30 – 17:50अशुभ
यम घंटा 12:31 – 13:50अशुभ
गुली काल 15:10 – 16:30अशुभ
अभिजित 12:09 -12:52शुभ
दूर मुहूर्त 16:25 – 17:07अशुभ

?पंचक अहोरात्र अशुभ

?चोघडिया, दिन
उद्वेग 07:11 – 08:31अशुभ
चाल 08:31 – 09:51शुभ
लाभ 09:51 – 11:11शुभ
अमृत 11:11 – 12:31शुभ
काल 12:31 – 13:50अशुभ
शुभ 13:50 – 15:10शुभ
रोग 15:10 – 16:30अशुभ
उद्वेग 16:30 – 17:50अशुभ

?चोघडिया, रात
शुभ 17:50 – 19:30शुभ
अमृत 19:30 – 21:10शुभ
चाल 21:10 – 22:50शुभ
रोग 22:50 – 24:30*अशुभ
काल 24:30* – 26:11*अशुभ
लाभ 26:11* – 27:51*शुभ
उद्वेग 27:51* – 29:31*अशुभ
शुभ 29:31* – 31:11*शुभ

?होरा, दिन
सूर्य 07:11 – 08:05
शुक्र 08:05 – 08:58
बुध 08:58 – 09:51
चन्द्र 09:51 – 10:44
शनि 10:44 – 11:37
बृहस्पति 11:37 – 12:31
मंगल 12:31 – 13:24
सूर्य 13:24 – 14:17
शुक्र 14:17 – 15:10
बुध 15:10 – 16:03
चन्द्र 16:03 – 16:57
शनि 16:57 – 17:50

?होरा, रात
बृहस्पति 17:50 – 18:57
मंगल 18:57 – 20:03
सूर्य 20:03 – 21:10
शुक्र 21:10 – 22:17
बुध 22:17 – 23:24
चन्द्र 23:24 – 24:30
शनि 24:30* – 25:37
बृहस्पति 25:37* – 26:44
मंगल 26:44* – 27:51
सूर्य 27:51* – 28:58
शुक्र 28:58* – 30:04
बुध 30:04* – 31:11

नोट– दिन और रात्रि के चौघड़िया का आरंभ क्रमशः सूर्योदय और सूर्यास्त से होता है। प्रत्येक चौघड़िए की अवधि डेढ़ घंटा होती है।
चर में चक्र चलाइये , उद्वेगे थलगार। शुभ में स्त्री श्रृंगार करे,लाभ में करो व्यापार ॥
रोग में रोगी स्नान करे, काल करो भण्डार। अमृत में काम सभी करो, सहाय करो कर्तार॥
अर्थात- चर में वाहन,मशीन आदि कार्य करें। उद्वेग में भूमि सम्बंधित एवं स्थायी कार्य करें। शुभ में स्त्री श्रृंगार ,सगाई व चूड़ा पहनना आदि कार्य करें। लाभ में व्यापार करें। रोग में जब रोगी रोग मुक्त हो जाय तो स्नान करें। काल में धन संग्रह करने पर धन वृद्धि होती है। अमृत में सभी शुभ कार्य करें।

?दिशा शूल ज्ञान——-पश्चिम
परिहार-: आवश्यकतानुसार यदि यात्रा करनी हो तो घी अथवा गेंहूं खाके यात्रा कर सकते हैl
इस मंत्र का उच्चारण करें-:
शीघ्र गौतम गच्छत्वं ग्रामेषु नगरेषु चl भोजनं वसनं यानं मार्गं मे परिकल्पय:ll

?अग्नि वास ज्ञान -:

4 + 1 + 1= 6 ÷ 4 = 2 शेष
आकाश पर अग्नि वास हवन के लिए अशुभ कारक है l

? शिव वास एवं फल -:

4 + 4 + 5 = 13 ÷ 7 = 6 शेष

क्रीड़ायां = शोक,दुःख कारक

?भद्रावास एवं फल -:

दोपहर 15:34 तक समाप्त

मृत्यु लोक = सर्वकार्य विनाशिनी

?? विशेष जानकारी ??

*सर्वार्थ सिद्धि योग 31:05 तक

???शुभ विचार???

त्यजेध्दर्म दयाहीनं विद्याहीनं गुरुं त्यजेत्। त्यजेत्क्रोधमुखीं भार्यान्निः स्नेहानबंधवांस्त्यजेत्।।
।।चा o नी o।।

जिस व्यक्ति के पास धर्म और दया नहीं है उसे दूर करो. जिस गुरु के पास अध्यात्मिक ज्ञान नहीं है उसे दूर करो. जिस पत्नी के चेहरे पर हरदम घृणा है उसे दूर करो. जिन रिश्तेदारों के पास प्रेम नहीं उन्हें दूर करो.

??दैनिक राशिफल??

देशे ग्रामे गृहे युद्धे सेवायां व्यवहारके। नामराशेः प्रधानत्वं जन्मराशिं न चिन्तयेत्।।
विवाहे सर्वमाङ्गल्ये यात्रायां ग्रहगोचरे। जन्मराशेः प्रधानत्वं नामराशिं न चिन्तयेत्।।

?मेष
बकाया वसूली के प्रयास सफल रहेंगे। व्यावसायिक यात्रा लाभप्रद रहेगी। विरोधी सक्रिय रहेंगे। सुख के साधन जुटेंगे। धन प्राप्ति सुगम होगी।

?वृष
शत्रु भय रहेगा। नई योजना बनेगी। लेन-देन में सावधानी रखें। मान-सम्मान मिलेगा। व्यवसाय ठीक चलेगा। प्रमाद न करें।

?मिथुन
पूजा-पाठ में मन लगेगा। राजकीय सहयोग मिलेगा। धन प्राप्ति सुगम होगी। चोट व रोग से बचें। वस्तुएं संभालकर रखें। राजकीय बाधा दूर होगी।

?कर्क
चोट, चोरी, विवाद व रोग आदि से हानि संभव है। जोखिम व जमानत के कार्य टालें। बनते कार्य में विलंब होगा। धर्म-कर्म में रुचि रहेगी।

?सिंह
शत्रु भय रहेगा। भागदौड़ रहेगी। जीवनसाथी से सहयोग मिलेगा। पुराना रोग उभर सकता है। कानूनी बाधा दूर होगी। संतान पक्ष की चिंता रहेगी।

??कन्या
संतान पक्ष की चिंता रहेगी। भूमि व भवन संबंधी बाधा दूर होगी। उन्नति के मार्ग प्रशस्त होंगे। लाभ होगा। बकाया वसूली होगी।

तुला
चोट व रोग से बाधा संभव है। जोखिम न लें। पार्टी व पिकनिक का आनंद मिलेगा। रचनात्मक कार्य पूर्ण होंगे। यात्रा लाभदायक रहेगी।

?वृश्चिक
बेचैनी रहेगी। व्यर्थ भागदौड़ होगी। शोक समाचार मिल सकता है। विवाद से बचें। पुराना रोग उभर सकता है। शत्रु भय रहेगा।

?धनु
अज्ञात भय सताएगा। विवाद को बढ़ावा न दें। हानि संभव है। प्रयास सफल रहेंगे। प्रतिष्ठा में वृद्धि होगी। विवाद को बढ़ावा न दें।

?मकर
जीवनसाथी से सहयोग मिलेगा। स्वास्थ्य का ध्यान रखें। शुभ समाचार मिलेंगे। पुराने मित्र व संबंधियों से मिलेंगे। फालतू खर्च होगा।

?कुंभ
रोजगार में वृद्धि होगी। भेंट व उपहार की प्राप्ति होगी। धन प्राप्ति सुगम होगी। यात्रा होगी। चोट व रोग से बचें। जोखिम के कार्य टालें।

?मीन
फालतू खर्च होगा। दूसरों से अपेक्षा न करें। वाणी पर नियंत्रण रखें। कार्य में बाधा होगी। धैर्य रखें। शारीरिक कष्ट से बाधा संभव है।

?आपका दिन मंगलमय हो?
?????????

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

code