Notice: Undefined index: hide_archive_titles in /home/jaymahakaal01/public_html/wp-content/themes/minimize/includes/theme-functions.php on line 233

Tag: #Shiv

क्यों मनाते हैं गणगोर का पर्व?

होली के दूसरे दिन से इस त्योहार को शुरू किया जाता है. चैत्र शुक्ल तृतीया को यह त्योहार सम्पन्न होता है.

Continue Reading

क्यो रविवार को तुलसी को स्पर्श एवं पूजन करना निषेद होता है?

तुलसी का पत्ता बिना स्नान किए नहीं तोड़ना चाहिए।

Continue Reading

महामृत्युंजय मंत्र के ८ विशेष प्रयोग

महामृत्युञजय मंत्र भगवान रूद्र का एक सर्वशक्तिशाली और साक्षात् प्रभाव देने वाला सिद्ध मंत्र है

Continue Reading

नाग पंचमी का महत्त्व

हिंदू धर्म में नाग पंचमी का विशेष महत्व है। नाग पंचमी के दिन देश के कई हिस्सों में सांपों की पूजा की जाती है। ऐसी मान्यता है कि सांपों की पूजा करने से शिव जी प्रसन्न होते हैं। और अपने भक्त की मनोकामनाओं की पूर्ति करते हैं। वहीं, पौणारिक मान्यताओं में शिव जी का आशीर्वाद पाने के लिए नाग पंचमी को खास दिन बताया गया है।

Continue Reading

क्यों प्रिय है शिव को सावन?

भगवान शिव की पूजा करने का सबसे उत्तम महीना होता है सावन लेकिन क्या आप जानते हैं कि सावन के महीने का इतना महत्व क्यों है और भगवान शिव को यह महीना क्यों प्रिय है? आइए जानते हैं इसके पीछे की मान्यताओं के बारे में

Continue Reading

क्यों हैं “ॐ नमः शिवाय” का जाप तेज एवं प्रभावशाली?

भगवान शिव के पांच मुख उनके अग्नि स्तंभ के रुप में प्रकट हुए थे। ये पांच मुख, पांचों तत्व पृथ्वी, जल, आकाश, अग्नि तथा वायु के रूप थे। सर्वप्रथम ॐ शब्द की उत्पत्ति हुई थी, उसके बाद पांच शब्द नम: शिवाय की उत्पत्ति उनके पांचों मुखों से हुई…..

Continue Reading

रुद्राक्ष धारण करने का सही तरीका

रुद्राक्ष स्वभाव से ही प्रभावी होता है, लेकिन यदि उसे विशेष पद्धति से सिद्ध किया जाए तो उसका प्रभाव कई गुना अधिक हो जाता है। अगर जप के लिए रुद्राक्ष की माला सिद्ध करनी हो तो

Continue Reading

देवी – देवताओं के वाहनों के रहस्य – भाग – २

भारत में बैल खेती के लिए हल में जोते जाने वाला एक महत्वपूर्ण पशु रहा है।

Continue Reading

भगवान शिव के जन्म की कहानी

तब ब्रह्मा ने शिव का नाम ‘रूद्र’ रखा जिसका अर्थ होता है ‘रोने वाला’।

Continue Reading

क्यों शंख से नही चढ़ाते शिव जी को जल?

ब्रह्मा की आज्ञा से तुलसी और शंखचूड का विवाह हो गया।

Continue Reading