Tag: #Hindu

शमशान से लौटने पर नहाना क्यों जरूरी है?

हिन्दू धर्म में शव को श्मशान भूमि में जाकर अग्नि को समर्पित करने का विधान है।

Continue Reading

Why we tie Mauli or Kalava in hand?

The sanctified thread is tied by the Guru/ panditji (holy men) or by the elderly members

Continue Reading

नवरात्र के कुछ अनकहे, दिलचस्प तथ्य।

वैसे तो हर किसी को दो नवरात्रि का ज्ञान है लेकिन बहुत कम लोगो को ज्ञात होगा कि एक वर्ष में नवरात्रि ४ बार पड़ती है।

Continue Reading

Some amazing and interesting facts about Hinduism

Please stop using the term “God fearing” – Hindus never ever fear God.

Continue Reading

जानें, किसी भी शुभ कार्य के पूर्व क्यों खिलाते हैं दही-शक्कर?

दही को खाने के कई धार्मिक कारण भी हैं, ज्योतिषियों के मुताबिक सफेद रंग को चंद्रमा का कारक माना जाता है।

Continue Reading

क्यों मनाते हैं गुड़ी पड़वा?

यह त्यौहार चैत्र मास के शुक्ल पक्ष की प्रतिपदा से होने वाले नए साल की शुरुआत के दिन ही मनाने की परंपरा है।

Continue Reading

क्या आप जानते हैं इन शुभ परंपराओं के पीछे के राज? भाग -१

हिंदु धर्म में पूजा के समय कुछ बातें अनिवार्य मानी गई है। जैसे प्रसाद, मंत्र, स्वास्तिक, कलश, आचमन, तुलसी, मांग में सिंदूर, संकल्प, शंखनाद और चरण स्पर्श। आइए जानते हैं इनका क्या पौराणिक महत्व है।

Continue Reading

ये काम दिलाते हैं आपको पिछले जन्म के पापों से मुक्ति

हिन्दू शास्त्रों और पुराणों का हमारे जीवन में बहुत महत्व है इनके माध्यम से हमें कई प्रकार की जानकारी प्राप्त होती है जो हमारी समस्याओं के समाधान में सहायक सिद्ध होती है. शास्त्रों के अनुसार व्यक्ति अपने जीवन में कई प्रकार से पुण्य अर्जित कर सकता है जो व्यक्ति के द्वारा जाने अनजाने में किये गए पापों से व्यक्ति को मुक्ति की राह पर ले जाता है।

Continue Reading

शिव ने लिए कई अवतार, जानिये क्या है उनका आधार

शिव महापुराण में भैरव को परमात्मा शंकर का पूर्ण रूप बताया गया है। एक बार भगवान शंकर की माया से प्रभावित होकर ब्रह्मा व विष्णु स्वयं को श्रेष्ठ मानने लगे। तब वहां तेज-पुंज के मध्य एक पुरुषाकृति दिखलाई पड़ी। उन्हें देखकर ब्रह्माजी ने कहा- चंद्रशेखर तुम मेरे पुत्र हो। अत: मेरी शरण में आओ। ब्रह्मा की ऐसी बात सुनकर भगवान शंकर को क्रोध आ गया। उन्होंने उस पुरुषाकृति से कहा- काल की भांति शोभित होने के कारण आप साक्षात कालराज हैं। भीषण होने से भैरव हैं। भगवान शंकर से इन वरों को प्राप्त कर कालभैरव ने अपनी अंगुली के नाखून से ब्रह्मा के पांचवें सिर को काट दिया।

Continue Reading

क्यों संघर्ष कर रहा है सनातन धर्म या हिन्दू संस्कृति

क्या आपने कभी सोचा कि हिन्दू संप्रदाय या सनातन धर्म विश्व के प्राचीनतम धर्मो में से एक होने के बावजूद भी आज संघर्ष क्यों कर रहा है, आखिर क्यों इतने ढेर सारे धर्मो का प्रादुर्भाव हुआ, आखिर क्यों ना सारे मनुष्य सनातन धर्मी ही रहें, आखिर मुस्लिमो, ईसाइयो और अन्य धर्मो का प्रादुर्भाव क्यों हुआ?

Continue Reading