दिनांम १६.०२.२०१८ का पंचांग और राशिफल

दिनांम १६.०२.२०१८ का पंचांग और राशिफल

??????????
*********|| जय श्री राधे ||*********
??? अथ पंचांगम् ???

दिनाँक-: 16/02/2018,शुक्रवार
फाल्गुन ,शुक्ल पक्ष
प्रतिपदा
“”””””””””””””””””””””””””””””””””(समाप्ति काल)

तिथि———–प्रतिपदा27:56:54 तक
पक्ष—————————–शुक्ल
नक्षत्र————धनिष्ठा09:41:48
योग—————परिघ15:42:24
करण——-किन्स्तुघ्ना15:19:22
करण ————–भाव27:56:54
वार—————————शुक्रवार
माह————————–फाल्गुन
चन्द्र राशि——————— कुम्भ
सूर्य राशि———————- कुम्भ
रितु—————————-शिशिर
आयन———————उत्तरायण
संवत्सर———————हेम्लम्बी
संवत्सर (उत्तर)———–साधारण
विक्रम संवत—————–2074
विक्रम संवत (कर्तक)——-2074
शाका संवत——————1939
सूर्योदय—————–06:57:02
सूर्यास्त——————18:09:51
दिन काल—————11:12:48
रात्री काल————–12:46:21
चंद्रास्त——————18:41:02
चंद्रोदय——————31:16:14

लग्न—कुम्भ 3°12′ , 303°12′

सूर्य नक्षत्र——————–धनिष्ठा
चन्द्र नक्षत्र——————–धनिष्ठा
नक्षत्र पाया———————-ताम्र

??? पद, चरण ???

गे—-धनिष्ठा 09:41:41

गो—-शतभिषा 16:10:32

सा—-शतभिषा 22:37:53

सी—-शतभिषा 29:03:22

??? ग्रह गोचर ???

ग्रह =राशी , अंश ,नक्षत्र, पद
=======================
सूर्य=कुम्भ 03 ° 12, धनिष्ठा , 3 गु
चन्द्र=कुम्भ 06° 18′ धनिष्ठा ‘ 4गे
बुध=कुम्भ 02° 11’ धनिष्ठा ‘3 गु
शुक्र=कुम्भ 12° 17’ शतभिषा , 2 सा
मंगल=वृश्चिक 18°27 ‘ज्येष्ठा ‘1 नो
गुरु=तुला 28 ° 21′ विशाखा , 3 ते
शनि=धनु 12 ° 05’ मूल ‘4 भी
राहू=कर्क 20 ° 30 ‘आश्लेषा , 2 डू
केतु=मकर 20 ° 30 ‘ श्रवण, 4 खो

???शुभा$शुभ मुहूर्त???

राहू काल 11:09 – 12:33अशुभ
यम घंटा 15:22 – 16:46अशुभ
गुली काल 08:21 – 09:45अशुभ
अभिजित 12:11 -12:56शुभ
दूर मुहूर्त 09:12 – 09:56अशुभ
दूर मुहूर्त 12:56 – 13:41अशुभ

?पंचक-अहोरात्र अशुभ

?चोघडिया, दिन
चाल 06:57 – 08:21शुभ
लाभ 08:21 – 09:45शुभ
अमृत 09:45 – 11:09शुभ
काल 11:09 – 12:33अशुभ
शुभ 12:33 – 13:58शुभ
रोग 13:58 – 15:22अशुभ
उद्वेग 15:22 – 16:46अशुभ
चाल 16:46 – 18:10शुभ

?चोघडिया, रात
रोग 18:10 – 19:46अशुभ
काल 19:46 – 21:21अशुभ
लाभ 21:21 – 22:57शुभ
उद्वेग 22:57 – 24:33*अशुभ
शुभ 24:33* – 26:09*शुभ
अमृत 26:09* – 27:45*शुभ
चाल 27:45* – 29:20*शुभ
रोग 29:20* – 30:56*अशुभ

?होरा, दिन
शुक्र 06:57 – 07:53
बुध 07:53 – 08:49
चन्द्र 08:49 – 09:45
शनि 09:45 – 10:41
बृहस्पति 10:41 – 11:37
मंगल 11:37 – 12:33
सूर्य 12:33 – 13:30
शुक्र 13:30 – 14:26
बुध 14:26 – 15:22
चन्द्र 15:22 – 16:18
शनि 16:18 – 17:14
बृहस्पति 17:14 – 18:10

?होरा, रात
मंगल 18:10 – 19:14
सूर्य 19:14 – 20:18
शुक्र 20:18 – 21:21
बुध 21:21 – 22:25
चन्द्र 22:25 – 23:29
शनि 23:29 – 24:33
बृहस्पति 24:33* – 25:37
मंगल 25:37* – 26:41
सूर्य 26:41* – 27:45
शुक्र 27:45* – 28:48
बुध 28:48* – 29:52
चन्द्र 29:52* – 30:56

नोट– दिन और रात्रि के चौघड़िया का आरंभ क्रमशः सूर्योदय और सूर्यास्त से होता है। प्रत्येक चौघड़िए की अवधि डेढ़ घंटा होती है।
चर में चक्र चलाइये, उद्वेगे थलगार। शुभ में स्त्री श्रृंगार करे,लाभ में करो व्यापार॥
रोग में रोगी स्नान करे, काल करो भण्डार। अमृत में काम सभी करो, सहाय करो कर्तार॥
अर्थात- चर में वाहन,मशीन आदि कार्य करें। उद्वेग में भूमि सम्बंधित एवं स्थायी कार्य करें। शुभ में स्त्री श्रृंगार ,सगाई व चूड़ा पहनना आदि कार्य करें। लाभ में व्यापार करें। रोग में जब रोगी रोग मुक्त हो जाय तो स्नान करें। काल में धन संग्रह करने पर धन वृद्धि होती है। अमृत में सभी शुभ कार्य करें।

?दिशा शूल ज्ञान——-पश्चिम
परिहार-: आवश्यकतानुसार यदि यात्रा करनी हो तो घी अथवा काजू खाके यात्रा कर सकते है l
इस मंत्र का उच्चारण करें-:
शीघ्र गौतम गच्छत्वं ग्रामेषु नगरेषु च l भोजनं वसनं यानं मार्गं मे परिकल्पय: ll

?अग्नि वास ज्ञान -:

1+ 6 + 1= 8 ÷ 4 = 0 शेष
पृथ्वी पर अग्नि वास हवन के लिए शुभ कारक है l

? शिव वास एवं फल -:

1 + 1 + 5 = 7 ÷ 7 = 0 शेष

शमशान वास = मृत्यु कारक

???शुभ विचार???

यथा चतुर्भिः कनकं पराक्ष्यते निघर्षणं छेदनतापताडनैः।
तथा चतुर्भिः पुरुषः परीक्ष्य़ते त्यागेन शीलेन गुणेन कर्मणा।।
।।चा o नी o।।

सोने की परख उसे घिस कर, काट कर, गरम कर के और पीट कर की जाती है, उसी तरह व्यक्ति का परीक्षण वह कितना त्याग करता है, उसका आचरण कैसा है, उसमे गुण कौनसे है और उसका व्यवहार कैसा है इससे होता है।

??दैनिक राशिफल??

देशे ग्रामे गृहे युद्धे सेवायां व्यवहारके। नामराशेः प्रधानत्वं जन्मराशिं न चिन्तयेत्।।
विवाहे सर्वमाङ्गल्ये यात्रायां ग्रहगोचरे। जन्मराशेः प्रधानत्वं नामराशिं न चिन्तयेत्।।

?मेष
घर-बाहर पूछ-परख रहेगी। योजना फलीभूत होगी। कार्यस्थल पर परिवर्तन संभव है। व्यवसाय ठीक रहेगा ।

?वृष
राजकीय सहयोग प्राप्त होगा। तंत्र-मंत्र में रुचि रहेगी। यात्रा सफल रहेगी। व्यवसाय ठीक चलेगा। प्रमाद न करें।

?मिथुन
चोट व रोग से बचें। जल्दबाजी से हानि संभव है। कुसंगति से हानि होगी। विरोधी सक्रिय रहेंगे, धैर्य रखें।

?कर्क
राजकीय बाधा दूर होकर लाभ की स्थिति बनेगी। धनार्जन होगा। वैवाहिक प्रस्ताव मिल सकता है, लाभ होगा।

?सिंह
उन्नति के मार्ग प्रशस्त होंगे। संपत्ति के बड़े सौदे बड़ा लाभ दे सकते हैं। रोजगार मिलेगा, चिंता रहेगी।

??कन्या
किसी आनंदोत्सव में हिस्सा लेने का अवसर मिलेगा। बौद्धिक कार्य सफल रहेंगे। धनलाभ होगा। जोखिम न लें।

तुला
बुरी खबर मिलने से तनाव रह सकता है। चोट व रोग से बचें। मेहनत का फल कम मिलेगा। विवाद न करें।

?वृश्चिक
घर-बाहर पूछ-परख रहेगी। मेहनत रंग लाएगी। कार्यसिद्धि होगी। प्रसन्नता रहेगी। शारीरिक कष्ट संभव है।

?धनु
प्रतिष्ठित व्यक्तियों का सहयोग मिलेगा। अच्छी खबर मिलेगी। प्रसन्नता रहेगी। व्यवसाय ठीक चलेगा।

?मकर
भेंट व उपहार की प्राप्ति होगी। भाग्योन्नति के प्रयास सफल रहेंगे। नौकरी, यात्रा व निवेश मनोनुकूल लाभ देंगे।

?कुंभ
जोखिम व जमानत के कार्य टालें। खर्च पर नियंत्रण नहीं रहेगा। अपेक्षित कार्य रुकेंगे। चोट व रोग से हानि संभव है।

?मीन
डूबी हुई रकम प्राप्त हो सकती है। व्यावसायिक यात्रा सफल रहेगी। व्यवसाय ठीक चलेगा। प्रसन्नता रहेगी।

यदि आपके पास वेद-पुराण, कुंडली या हिन्दू संस्कृति से सम्बंधित सवाल हो तो आप हमसे संपर्क कर सकते हैं, हमारा ईमेल id है @jaymahakaal01@gmail.com

साथ ही आप हमारे फेसबुक पेज www.facebook.com/JayMahakal01, ट्विटर, और इंस्टाग्राम @jaymahakal01 को like और share करें और नित नई जानकारियो के लिए हमसे जुड़े रहिये और विजिट करते रहिए।

www.jaymahakaal.com

जय माँ। जय महाकाल।

?आपका दिन मंगलमय हो?
?????????

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *