दिनांक ०३.०४.२०१८ का पंचांग एवं राशिफल

Rashifal

दिनांक ०३.०४.२०१८ का पंचांग एवं राशिफल

??????????
*********|| जय महाकाल||*********
??? अथ पंचांगम् ???

?? आंग्ल मतानुसार :-
03 अप्रैल सन 2018 ईस्वी, दिन: मंगलवार

?? भारतीय मतानुसार
वैशाख , कृष्ण पक्ष
तृतीया
“”””””””””””””””””””””””””””””””(समाप्ति काल)

तिथि————तृतीया16:43:30 तक
पक्ष—————————–कृष्ण
नक्षत्र————-स्वाति06:21:34
योग—————–वज्र25:21:48
करण———विष्टि भद्र16:43:30
करण—————भाव29:02:53
वार————————-मंगलवार
माह—————————वैशाख
चन्द्र राशि——— तुला25:09:34
चन्द्र राशि——————–वृश्चिक
सूर्य राशि———————– मीन
रितु——————————वसंत
आयन———————उत्तरायण
संवत्सर———————-विलम्बी
संवत्सर (उत्तर)———-विरोधकृत
विक्रम संवत—————–2075
विक्रम संवत (कर्तक)——-2074
शाका संवत——————1940
सूर्योदय—————–06:09:02
सूर्यास्त——————18:36:19
दिन काल—————12:27:16
रात्री काल————–11:31:37
चंद्रास्त——————08:05:37
चंद्रोदय——————21:24:20

लग्न—-मीन 19°6′ , 349°6′

सूर्य नक्षत्र———————-रेवती
चन्द्र नक्षत्र———————स्वाति
नक्षत्र पाया———————रजत

??? पद, चरण ???

ता—-स्वाति 06:21:34

ती—-विशाखा 12:35:06

तू—-विशाखा 18:51:05

ते—-विशाखा 25:09:34

??? ग्रह गोचर ???

ग्रह =राशी , अंश ,नक्षत्र, पद
=======================
सूर्य=मीन 19 ° 0 , रेवती ,1 दे
चन्द्र=तुला 19 ° 49′ स्वाति , 4 ता
बुध=मीन 16 ° 48 ‘ रेवती ‘ 1 दे
शुक्र=मेष 09 ° 28 ,अश्वनी , 3 चो
मंगल=धनु 15 °05 ‘ पूर्वाषाढ़ा ‘ 1 भू
गुरु=तुला 28 ° 14’ विशाखा , 3 ते
शनि=धनु 14 ° 53’पू o षा o ‘1भू
राहू=कर्क 17 ° 50 ‘आश्लेषा , 1 डी
केतु=मकर 17 ° 50’ श्रवण, 3 खे

???शुभा$शुभ मुहूर्त???

राहू काल 15:29 – 17:03अशुभ
यम घंटा 09:16 – 10:49अशुभ
गुली काल 12:23 – 13:56अशुभ
अभिजित 11:58 -12:48शुभ
दूर मुहूर्त 08:38 – 09:28अशुभ
दूर मुहूर्त 23:13 – 24:03*अशुभ

?चोघडिया, दिन
रोग 06:09 – 07:42अशुभ
उद्वेग 07:42 – 09:16अशुभ
चाल 09:16 – 10:49शुभ
लाभ 10:49 – 12:23शुभ
अमृत 12:23 – 13:56शुभ
काल 13:56 – 15:29अशुभ
शुभ 15:29 – 17:03शुभ
रोग 17:03 – 18:36अशुभ

?चोघडिया, रात
काल 18:36 – 20:03अशुभ
लाभ 20:03 – 21:29शुभ
उद्वेग 21:29 – 22:56अशुभ
शुभ 22:56 – 24:22*शुभ
अमृत 24:22* – 25:49*शुभ
चाल 25:49* – 27:15*शुभ
रोग 27:15* – 28:41*अशुभ
काल 28:41* – 30:08*अशुभ

?होरा, दिन
मंगल 06:09 – 07:11
सूर्य 07:11 – 08:14
शुक्र 08:14 – 09:16
बुध 09:16 – 10:18
चन्द्र 10:18 – 11:20
शनि 11:20 – 12:23
बृहस्पति 12:23 – 13:25
मंगल 13:25 – 14:27
सूर्य 14:27 – 15:29
शुक्र 15:29 – 16:32
बुध 16:32 – 17:34
चन्द्र 17:34 – 18:36

?होरा, रात
शनि 18:36 – 19:34
बृहस्पति 19:34 – 20:32
मंगल 20:32 – 21:29
सूर्य 21:29 – 22:27
शुक्र 22:27 – 23:24
बुध 23:24 – 24:22
चन्द्र 24:22* – 25:20
शनि 25:20* – 26:17
बृहस्पति 26:17* – 27:15
मंगल 27:15* – 28:13
सूर्य 28:13* – 29:10
शुक्र 29:10* – 30:08

नोट– दिन और रात्रि के चौघड़िया का आरंभ क्रमशः सूर्योदय और सूर्यास्त से होता है। प्रत्येक चौघड़िए की अवधि डेढ़ घंटा होती है।
चर में चक्र चलाइये, उद्वेगे थलगार। शुभ में स्त्री श्रृंगार करे, लाभ में करो व्यापार॥
रोग में रोगी स्नान करे, काल करो भण्डार। अमृत में काम सभी करो, सहाय करो कर्तार॥
अर्थात- चर में वाहन, मशीन आदि कार्य करें। उद्वेग में भूमि सम्बंधित एवं स्थायी कार्य करें। शुभ में स्त्री श्रृंगार, सगाई व चूड़ा पहनना आदि कार्य करें। लाभ में व्यापार करें। रोग में जब रोगी रोग मुक्त हो जाय तो स्नान करें। काल में धन संग्रह करने पर धन वृद्धि होती है। अमृत में सभी शुभ कार्य करें।

?दिशा शूल ज्ञान——-उत्तर
परिहार-: आवश्यकतानुसार यदि यात्रा करनी हो तो घी अथवा गुड़ खाके यात्रा कर सकते है l
इस मंत्र का उच्चारण करें-:
शीघ्र गौतम गच्छत्वं ग्रामेषु नगरेषु च l भोजनं वसनं यानं मार्गं मे परिकल्पय: ll

?अग्नि वास ज्ञान -:

15 +3 + 3 + 1= 22 ÷ 4 = 2 शेष
आकाश पर अग्नि वास हवन के लिए अशुभ कारक है l

? शिव वास एवं फल -:

18 + 18 + 5 = 41 ÷ 7 = 6 शेष

क्रीड़ायां = शोक ,दुःख कारक

?भद्रावास एवं फल -:

सांय 16:34 तक समाप्त

पाताल = धनलाभ कारक

?? विशेष जानकारी ??

* चतुर्थी व्रत चन्द्रोदय रात्रि 21:34

* अंगारकी चतुर्थी व्रत

*पद्भनाभ भट्टाचार्य पाटोत्सव

???शुभ विचार???

हस्ती हस्तसहस्त्रेण शतहस्तेन वाजिनः। श्रृड्गिणी दशहस्तेन देशत्यागेन दुर्जनः।।
।।चा o नी o।।

हाथी से हजार गज की दुरी रखे, घोड़े से सौ की, सिंग वाले जानवर से दस गज की, लेकिन दुष्ट जहा हो उस जगह से ही निकल जाए।

? आरोग्यं :-
नस पर नस चढ़ना (माँस-पेशियों की ऐंठन) के घरेलु उपचार :-
1. सोते समय पैरों के नीचे मोटा तकिया रखकर सोएं।
2. आराम करें। पैरों को ऊंचाई पर रखें।
3. प्रभाव वाले स्थान पर बर्फ की ठंडी सिकाई करे। सिकाई 15 मिनट, दिन में 3-4 बार करे।
4. अगर गर्म-ठंडी सिकाई 3 से 5 मिनट की (दोनों तरह की बदल-2 कर) करें तो इस समस्या और दर्द – दोनों से राहत मिलेगी।
5. आहिस्ते से ऎंठन वाली पेशियों, तंतुओं पर खिंचाव दें, आहिस्ता से मालिश करें।
6. वेरीकोज वेन के लिए पैरों को ऊंचाई पर रखे, पैरों में इलास्टिक पट्टी बांधे जिससे पैरों में खून जमा न हो पाए।
7. यदि आप मधुमेह या उच्च रक्तचाप से ग्रसित हैं, तो परहेज, उपचार से नियंत्रण करें।
8. शराब, तंबाकू, सिगरेट, नशीले तत्वों का सेवन नहीं करें।
9. सही नाप के आरामदायक, मुलायम जूते पहनें।
10. अपना वजन घटाएं। रोज सैर पर जाएं या जॉगिंग करें। इससे टांगों की नसें मजबूत होती हैं।

??दैनिक राशिफल??

देशे ग्रामे गृहे युद्धे सेवायां व्यवहारके। नामराशेः प्रधानत्वं जन्मराशिं न चिन्तयेत्।।
विवाहे सर्वमाङ्गल्ये यात्रायां ग्रहगोचरे। जन्मराशेः प्रधानत्वं नामराशिं न चिन्तयेत्।।

?मेष
वैवाहिक प्रस्ताव मिल सकता है। शुभ समाचार प्राप्त होंगे। राजकीय बाधा दूर होगी। धन प्राप्ति सुगम होगी।

?वृष
शत्रु भय रहेगा। भूमि व भवन संबंधी योजना बनेगी। उन्नति के मार्ग प्रशस्त होंगे। कुसंगति से हानि होगी।

?मिथुन
फालतू खर्च होगा। पार्टी व पिकनिक का आनंद मिलेगा। प्रसन्नता रहेगी। धनार्जन होगा। प्रमाद न करें।

?कर्क
लेन-देन में सावधानी रखें। दु:खद समाचार मिल सकता है। विवाद से क्लेश होगा। तनाव बना रहेगा।

?सिंह
प्रयास सफल रहेंगे। प्रतिष्ठा बढ़ेगी। धनार्जन होगा। चोट व रोग से बचें। वस्तुएं संभालकर रखें। लाभ होगा।

?‍♀कन्या
शुभ समाचार मिलेंगे। मान बढ़ेगा। व्यवसाय ठीक चलेगा। भागदौड़ रहेगी। परिवार की चिंता रहेगी।

तुला
रोजगार मिलेगा। व्यावसायिक यात्रा सफल रहेगी। आय के स्रोत बढ़ेंगे। भेंट व उपहार की प्राप्ति होगी। प्रमाद न करें।

?वृश्चिक
व्ययवृद्धि होगी। वाणी पर नियंत्रण रखें। शत्रु शांत रहेंगे। लेन-देन में सावधानी रखें। कार्य में देरी होगी।

?धनु
चोट व रोग से बाधा संभव है। रुका हुआ धन प्राप्त होगा। यात्रा सफल रहेगी। घर-बाहर मान बढ़ेगा।

?मकर
नई योजना बनेगी। कार्यसिद्धि होगी। प्रसन्नता बढ़ेगी। लेन-देन में सावधानी रखें। पुराना रोग परेशान कर सकता है।

?कुंभ
धर्म-कर्म में रुचि रहेगी। कोर्ट व कचहरी में बाधा दूर होगी। जोखिम न उठाएं। आय बढ़ेगी। प्रमाद न करें।

?मीन
जल्दबाजी न करें। चोट, चोरी व विवाद आदि से हानि संभव है। क्रोध पर नियंत्रण रखें। अस्वस्थता रहेगी।

?आपका दिन मंगलमय हो?
?????????
।। शुभम भवतु ।।

???? भारत माता की जय ??

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *