दिनांक १९.०४.२०१८ का पंचांग एवं राशिफल

Rashifal

दिनांक १९.०४.२०१८ का पंचांग एवं राशिफल

??????????
*********|| जय श्री राधे ||*********
??? अथ पंचांगम् ???

?? आंग्ल मतानुसार :-
19 अप्रैल सन 2018 ईस्वी, दिन: बृहस्पतिवार

?? भारतीय मतानुसार

वैशाख , शुक्ल पक्ष
चतुर्थी
“”””””””””””””””””””””””””””””””””””(समाप्ति काल)

तिथि————-चतुर्थी23:07:57 तक
पक्ष—————————–शुक्ल
नक्षत्र———–रोहिणी22:50:59
योग————सौभाग्य14:13:24
करण———–वाणिज12:19:18
करण———विष्टि भद्र23:07:57
वार—————————गुरूवार
माह—————————वैशाख
चन्द्र राशि——————— वृषभ
सूर्य राशि————————-मेष
रितु——————————वसंत
आयन———————उत्तरायण
संवत्सर———————-विलम्बी
संवत्सर (उत्तर)———-विरोधकृत
विक्रम संवत—————–2075
विक्रम संवत (कर्तक)——-2074
शाका संवत——————1940
सूर्योदय—————–05:52:15
सूर्यास्त——————18:44:47
दिन काल—————12:52:31
रात्री काल————–11:06:29
चंद्रोदय——————08:24:19
चंद्रास्त——————22:14:36

लग्न—–मेष 4°48′ , 4°48′

सूर्य नक्षत्र——————–अश्विनी
चन्द्र नक्षत्र——————-रोहिणी
नक्षत्र पाया———————लोहा

??? पद, चरण ???

ओ—-रोहिणी 06:03:22

वा—-रोहिणी 11:39:29

वी—-रोहिणी 17:15:18

वु—-रोहिणी 22:50:51

वे—-मृगशिरा 28:26:39

??? ग्रह गोचर ???

ग्रह =राशी , अंश ,नक्षत्र, पद
=======================
सूर्य=मीन 04 ° 48 , अश्विनी ,2 चे
चन्द्र=वृषभ 13 ° 12′ रोहिणी, 1 ओ
बुध=मीन 11 ° 14′ उ०भा० ‘ 3 झ
शुक्र=मेष 28 ° 43 ,कृतिका , 1अ
मंगल=धनु 23 °30 ‘ पूर्वाषाढ़ा ‘ 4 ढा
गुरु=तुला 26 ° 44’ विशाखा , 3 ते
शनि=धनु 15 ° 04’पू o षा o ‘1भू
राहू=कर्क 17 ° 10 ‘आश्लेषा , 1 डी
केतु=मकर 17 ° 10’ श्रवण, 3 खे

???शुभा$शुभ मुहूर्त???

राहू काल 13:55 – 15:32अशुभ
यम घंटा 05:52 – 07:29अशुभ
गुली काल 09:05 – 10:42अशुभ
अभिजित 11:53 -12:44शुभ
दूर मुहूर्त 10:10 – 11:01अशुभ
दूर मुहूर्त 15:19 – 16:10अशुभ

?चोघडिया, दिन
शुभ 05:52 – 07:29शुभ
रोग 07:29 – 09:05अशुभ
उद्वेग 09:05 – 10:42अशुभ
चाल 10:42 – 12:19शुभ
लाभ 12:19 – 13:55शुभ
अमृत 13:55 – 15:32शुभ
काल 15:32 – 17:08अशुभ
शुभ 17:08 – 18:45शुभ

?चोघडिया, रात
अमृत 18:45 – 20:08शुभ
चाल 20:08 – 21:31शुभ
रोग 21:31 – 22:55अशुभ
काल 22:55 – 24:18*अशुभ
लाभ 24:18* – 25:41*शुभ
उद्वेग 25:41* – 27:05*अशुभ
शुभ 27:05* – 28:28*शुभ
अमृत 28:28* – 29:51*शुभ

?होरा, दिन
बृहस्पति 05:52 – 06:57
मंगल 06:57 – 08:01
सूर्य 08:01 – 09:05
शुक्र 09:05 – 10:10
बुध 10:10 – 11:14
चन्द्र 11:14 – 12:19
शनि 12:19 – 13:23
बृहस्पति 13:23 – 14:27
मंगल 14:27 – 15:32
सूर्य 15:32 – 16:36
शुक्र 16:36 – 17:40
बुध 17:40 – 18:45

?होरा, रात
चन्द्र 18:45 – 19:40
शनि 19:40 – 20:36
बृहस्पति 20:36 – 21:31
मंगल 21:31 – 22:27
सूर्य 22:27 – 23:23
शुक्र 23:23 – 24:18
बुध 24:18* – 25:14
चन्द्र 25:14* – 26:09
शनि 26:09* – 27:05
बृहस्पति 27:05* – 28:00
मंगल 28:00* – 28:56
सूर्य 28:56* – 29:51

नोट– दिन और रात्रि के चौघड़िया का आरंभ क्रमशः सूर्योदय और सूर्यास्त से होता है। प्रत्येक चौघड़िए की अवधि डेढ़ घंटा होती है।
चर में चक्र चलाइये, उद्वेगे थलगार। शुभ में स्त्री श्रृंगार करे, लाभ में करो व्यापार॥
रोग में रोगी स्नान करे, काल करो भण्डार। अमृत में काम सभी करो, सहाय करो कर्तार॥
अर्थात- चर में वाहन, मशीन आदि कार्य करें। उद्वेग में भूमि सम्बंधित एवं स्थायी कार्य करें। शुभ में स्त्री श्रृंगार, सगाई व चूड़ा पहनना आदि कार्य करें। लाभ में व्यापार करें। रोग में जब रोगी रोग मुक्त हो जाय तो स्नान करें। काल में धन संग्रह करने पर धन वृद्धि होती है। अमृत में सभी शुभ कार्य करें।

?दिशा शूल ज्ञान——-दक्षिण
परिहार-: आवश्यकतानुसार यदि यात्रा करनी हो तो घी अथवा वेसन के लड्डू खाके यात्रा कर सकते हैl
इस मंत्र का उच्चारण करें-:
शीघ्र गौतम गच्छत्वं ग्रामेषु नगरेषु चl भोजनं वसनं यानं मार्गं मे परिकल्पय:ll

?अग्नि वास ज्ञान -:

4 + 5 + 1= 10 ÷ 4 = 2शेष
आकाश पर अग्नि वास हवन के लिए अशुभ कारक है l

? शिव वास एवं फल -:

4 + 4 + 5 =13 ÷ 7 = 6शेष

क्रीड़ायां = शोक ,दुःख कारक

?भद्रावास एवं फल -:

दोपहर 12:18 से रात्रि 23:07 तक

स्वर्ग लोक = शुभ कारक

?? विशेष जानकारी ??

* विनायक चतुर्थी

?आरोग्यं :-
गले मे खराश, दर्द, सूजन के उपचार –

  1. गुनगुने पानी में नमक मिला कर दिन में दो-तीन बार गरारे करें। गरारे करने के तुरन्त बाद कुछ ठंडा न लें। गुनगुना पानी पिएं जिससे गले को आराम मिलेगा
  2. कच्चा सुहागा आधा ग्राम मुंह में रखें और उसका रस चुसते रहें। दो तीन घण्टों मे ही गला बिलकुल साफ हो जाएगा।
  3. सोते समय एक ग्राम मुलहठी की छोटी सी गांठ मुख में रखकर कुछ देर चबाते रहे। फिर मुंह में रखकर सो जाए। सुबह तक गला साफ हो जायेगा। मुलहठी चूर्ण को पान के पत्ते में रखकर लिया जाय तो और भी अच्छा रहेगा। इससे सुबह गला खुलने के साथ-साथ गले का दर्द और सूजन भी दूर होती है।
  4. रात को सोते समय सात काली मिर्च और उतने ही बताशे चबाकर सो जायें। बताशे न मिलें तो काली मिर्च व मिश्री मुंह में रखकर धीरे-धीरे चूसते रहने से बैठा गला खुल जाता है।

*???सुभाषितानि???*

गीता -: विश्वरूपदर्शन योग अo-11

मया प्रसन्नेन तवार्जुनेदंरूपं परं दर्शितमात्मयोगात्‌ ।,
तेजोमयं विश्वमनन्तमाद्यंयन्मे त्वदन्येन न दृष्टपूर्वम्‌ ॥,

श्री भगवान बोले- हे अर्जुन! अनुग्रहपूर्वक मैंने अपनी योगशक्ति के प्रभाव से यह मेरे परम तेजोमय, सबका आदि और सीमारहित विराट् रूप तुझको दिखाया है, जिसे तेरे अतिरिक्त दूसरे किसी ने पहले नहीं देखा था॥,47॥,

??दैनिक राशिफल??

देशे ग्रामे गृहे युद्धे सेवायां व्यवहारके। नामराशेः प्रधानत्वं जन्मराशिं न चिन्तयेत्।।
विवाहे सर्वमाङ्गल्ये यात्रायां ग्रहगोचरे। जन्मराशेः प्रधानत्वं नामराशिं न चिन्तयेत्।।

?मेष
शुभ समाचार मिलेंगे। पुराने मित्र व संबंधियों से मुलाकात होगी। मान बढ़ेगा। जल्दबाजी न करें। चिंता बनेगी।

?वृष
रोजगार मिलेगा। अप्रत्याशित लाभ हो सकता है। यात्रा सफल रहेगी। शत्रु सक्रिय रहेंगे। व्यवसाय ठीक चलेगा।

?मिथुन
फालतू खर्च बढ़ेगा। लेन-देन में सावधानी रखें। चिंता रहेगी। आय में कमी रहेगी। जोखिम न उठाएं।

?कर्क
बकाया वसूली के प्रयास सफल रहेंगे। व्यावसायिक यात्रा लाभकारी रहेगी। आय में कमी रहेगी। जोखिम न उठाएं।

?सिंह
नई योजना बनेगी। कार्यप्रणाली में सुधार होगा। रुके कार्यों में गति आएगी। घर-बाहर प्रसन्नता रहेगी।

?‍♀कन्या
कोर्ट व कचहरी में अनुकूलता मिलेगी। पूजा-पाठ में मन लगेगा। धनार्जन होगा। भागदौड़ अधिक रहेगी।

तुला
पुराना रोग उभर सकता है। चोट, चोरी व विवाद आदि से हानि संभव है। जोखिम व जमानत के कार्य न करें।

?वृश्चिक
प्रेम-प्रसंग में अनुकूलता रहेगी। कोर्ट व कचहरी के कार्य निबटेंगे। प्रसन्नता रहेगी। व्यवसाय ठीक चलेगा।

?धनु
शारीरिक कष्ट संभव है। बेचैनी रहेगी। भूमि व भवन संबंधी कार्ययोजना बनेगी। उन्नति के मार्ग प्रशस्त होंगे।

?मकर
स्वास्थ्य कमजोर रहेगा। पार्टी व पिकनिक का आनंद मिलेगा। विद्यार्थी वर्ग सफलता हासिल करेगा। प्रमाद न करें।

?कुंभ
भागदौड़ रहेगी। दु:खद समाचार मिल सकता है। विवाद से क्लेश होगा। स्वास्थ्य नरम रहेगा। जोखिम न लें।

?मीन
राजकीय कोप भुगतना पड़ सकता है। जल्दबाजी न करें। प्रयास सफल रहेंगे। मान-सम्मान मिलेगा। लाभ होगा।

?आपका दिन मंगलमय हो?
?????????
।। ? शुभम भवतु ? ।।

???? भारत माता की जय ??

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *