कुंडली विश्लेषण से भी अनिवार्य है – जन्म कुंडली।

कुंडली विश्लेषण से भी अनिवार्य है – जन्म कुंडली।

शायद ही आपने कभी गौर किया हो कि जन्म कुंडली का विश्लेषण करवाते वक़्त आपकी जन्म कुंडली का होना किसी ज्योतिषी के होने से भी पहले जरूरी है।

सबसे पहला काम जो एक ज्योतिषी आपके आने पर करता है वो आपकी कुंडली का निर्माण करना ही होता है, जिसके बिना आपके बारे में कुछ भी बताना सम्भव नही होता (कुंडली विशेषज्ञ के लिए)।

लेकिन आप कुंडली को बिल्कुल तवज्जो न देकर केवल ज्योतिषी को ही सब समझ लेते हैं मगर आप शायद भूल जाते है कि आपकी कुंडली के बिना हम भी आपकी सहायता करने में असमर्थ होंगे।

हम केवल एक माध्यम हैं आपको आपके लेख बताने वाले जबकि आपकी जन्म कुंडली वो किताब है जो सब जानती है, जिसे हम (ज्योतिषी) अपने सामर्थ्य से पढ़कर आपको बताते है। इसलिए अपनी जन्म कुंडली को लेकर भी कुछ नियमों का पालन कीजिये।

1 – कभी भी फटी हुई पुरानी कुंडली को न रखें, याद रखें जन्म कुंडली आपके जन्मों के भाग्य और कर्म का लेखा जोखा लिए हुए होती है, इसलिए इसे धार्मिक पुस्तकों की तरह ही सम्भाल कर रखें।

2 – कभी भी जन्म कुंडली को कचरे या फालतू समान या स्टोर आदि में न रखें, जन्म कुंडली रखने के लिए सबसे अच्छा स्थान ईशान कोण है।

3 – आपकी जन्म कुंडली गुरु ग्रह का सीधा सीधा कारक होती है, गुरु ग्रह ही आपके भाग्य, लाभ, पिछले जन्म के कर्म, धर्मस्थान आदि से जुड़ा होता है, इसलिए कुंडली को घर के मंदिर में रखना अत्यधिक शुभ होगा। आप इसके साथ थोड़े से चावल, कुमकुम और हल्दी गांठ भी रख सकते हैं।

4 – जन्म कुंडली हर ज्योतिषी का आधार है इसके बिना ज्योतिषी का अस्तित्व भी सोचना सम्भव नही तो हर ज्योतिषी को भी अपने पास आने वाले व्यक्ति की जन्म कुंडली के प्रति आदर भाव रखना चाहिए।

ये अच्छी बात है कि डिजिटल युग में सब स्क्रीन पर ही आ गया है लेकिन कृपया जन्म कुंडली को डिजिटल रूप में न लिया करें। ऐसा करके आप उसे राहु के प्रभाव में कर देते हैं। आपकी जन्म कुंडली एक किताब के रूप में (वस्तु रूप में) आपके पास होनी चाहिए।

मैं जन्म कुंडली के ऐसे ऐसे प्रयोग आपको बता सकता हूँ जिससे आप खुद अपनी बहुत सी साधारण समस्याओं का निवारण केवल अपनी जन्मकुंडली से अपने आप ही कर सकते है

लेकिन इतना भी अगर आप अपना लें तो यकीन मानिए आपको केवल बड़ी समस्या के समय ही ज्योतिषी के पास जाने की जरूरत पड़ेगी।

ऐसी ही अन्य रोचक बातें जानने हेतु आप हमारी साइट विजिट करते रहें www.jaymahakaal.com। यदि आपको यह आर्टिकल पसंद आया हो तो आप अपनी प्रतिक्रिया नीचे दिए हुए कमेंट बॉक्स में कर सकते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *