Notice: Undefined index: hide_archive_titles in /home/jaymahakaal01/public_html/wp-content/themes/minimize/includes/theme-functions.php on line 233

Author: जय महाकाल

Rashifal

पंचांग एवं राशिफल १४.०३.२०१८

*********|| जय महाकाल ||********* अथ पंचांगम्

दिनाँक -: 14/03/2018,बुधवार
चैत्र , कृष्ण पक्ष
द्वादशी
“”””””””””””””””””””””””””””””””(समाप्ति काल)

Continue Reading

Rashifal

दिनांक १३.०३.२०१८ का पंचांग एवं राशिफल

*********|| जय महाकाल||********* अथ पंचांगम्
दिनाँक -: 13/03/2018,मंगलवार
चैत्र , कृष्ण पक्ष
एकादशी
“””””””””””””””””””””””””””””””””(समाप्ति काल)

Continue Reading

Rashifal

दिनाँक १२.०३.२०१८ का पंचांग और राशिफल

*********|| जय महाकाल ||********* अथ पंचांगम्
दिनाँक -: 12/03/2018,सोमवार
चैत्र, कृष्ण पक्ष
दशमी
“”””””””””””””””””””””””””””””””(समाप्ति काल)

Continue Reading

Image

अभिमंत्रित कड़े

जैसा कि आप सब को विदित है कि १८ मॉर्च से चैत्र नवरात्रि का शुभारंभ हो रहा है, इस उपलक्ष्य में हमारे गुरु द्वारा विशेष रूप से अभिमंत्रित कड़े तैयार किये जाते है, इन कड़ो के द्वारा, भूत – प्रेत, टोना- टोटक, तंत्र क्रिया इत्यादि से सुरक्षा प्रदान होती है।

Continue Reading

Vetrilai

पान के पत्ते के 15 आश्चर्यजनक स्वास्थ लाभ

इन्‍हें मसूड़ों पर लगाने से खून बहना बंद हो जाता है।

Continue Reading

Rashifal

दिनांक ११.०३.२०१८ का पंचांग एवं राशिफल

भद्रावास एवं फल -:

रात्रि 25:55 से प्रारम्भ

पाताल लोक = धनलाभ कारक

Continue Reading

Rashifal

दिनांक १०.०३.२०१८ का पंचांग एवं राशिफल

*********|| जय श्री राधे ||********* अथ पंचांगम्

दिनाँक -: 10/03/2018,शनिवार
चैत्र, कृष्ण पक्ष
नवमी
“”””””””””””””””””””””””””””””””(समाप्ति काल)

Continue Reading

Saraswati

क्यों किया था ब्रह्मा ने अपनी ही पुत्री से विवाह

ब्रह्मा और सरस्वती की यह संतान मनु को पृथ्वी पर जन्म लेने वाला पहला मानव कहा जाता है।

Continue Reading

Rashifal

दिनांक ०९.०३.२०१८ का पंचांग एवं राशिफल

*********|| जय महाकाल ||*********
अथ पंचांगम्
दिनाँक -: 09/03/2018,शुक्रवार
चैत्र, कृष्ण पक्ष
अष्ठमी
“”””””””””””””””””””””””””””””””””(समाप्ति काल)

Continue Reading

maxresdefault

भगवान भैरव के आठ रूप

भीषण भैरव अपने एक हाथ में कमल, दूसरे में त्रिशूल, तीसरे में तलवार और चौंथे में एक पात्र पकड़े हुए हैं।

Continue Reading