हथेली से शनि ग्रह की जानकारी।

हाथों में शनि-ग्रह स्थान


ध्यान, लक्ष्य, सौभाग्य प्रदाता,
संत, चुम्बकीय गुणवाला ;
शनि निवास है मूल मध्यमा
अनुसंधानी और मस्त अकेला ।
आध्यात्मिक, ज्ञानी, विज्ञानी; उच्च शनि के ये लक्षण
काल के स्वामी “महाकाल” के इनको होते रहते दर्शन।


शनि उच्च का होकर के योग, ज्ञान, एकांत बढ़ाता;
बिना भाग्य की रेखा के भी जीवन में उत्थान कराता ।
दबा शनि निराशा लाता, स्व-हानि भी कर लेगा;
हस्तरेख में भाग्य न हो, तो एकांत दुखित हो रह लेगा ।
जय महाकाल !

हिन्दू संस्कृति या सनातन धर्म के बारे में किसी भी प्रकार की जानकारी साझा करने हेतु अथवा कुंडली, वास्तु, हस्त रेखा, विवाह, नौकरी इत्यादि से सम्बंधित कोई समस्या हो तो आप हमसे हमारी ईमेल आईडी info@jaymahakaal.com पर संपर्क कर सकते है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

code