गणेश चतुर्थी 2019: इस शुभ मुहूर्त में करें पूजा-अर्चना

गणेश चतुर्थी 2019: इस शुभ मुहूर्त में करें पूजा-अर्चना

गणेश चतुर्थी हिंदू धर्म के प्रमुख त्योहारों में से एक है,  यह भाद्रपद शुक्ल  चतुर्थी को मनाई  जाती है.  इस बार गणेश चतुर्थी (Ganesh Chaturthi 2019) का त्यौहार 2 सिंतबर को मनाया जाएगा. ऐसा माना जाता है कि गणपति जी का जन्म मध्यकाल में हुआ था, इसलिए उनकी स्थापना इसी काल में होनी चाहिए. अगर इस दिन की पूजा सही समय और मुहूर्त पर की जाए तो हर मनोकामना की पूर्ति होता है.

गणेश चतुर्थी (भाद्रपद शुक्ल पक्ष के चतुर्थी) 2 सितंबर 2019 दिन सोमवार
गणेश चतुर्थी तिथि आरंभ- 04:56, चतुर्थी तिथि समाप्त- 01:53 (3 सितंबर 2019)
गणेश पूजा के लिए अभिजित मुहुर्त –
2 सितंबर 11:05 से 13:36 दोपहर तक प्रारंभ कर लेना चाहिए ।

विशेष मुहूर्त –
अमृत चैघड़िया – प्रातः 6.10 से 7.44 तक, 
शुभ चैघड़िया- प्रातः 9.18 से 10.53 तक
लाभ चैघड़िया-  दोपहर बाद 3.35 से 5.09 तक। 

गणेश चतुर्थी व्रत पूजा विधि :-
सबसे पहले एक ईशान कोण में स्वच्छ जगह पर रंगोली डाली जाती हैं, जिसे चौक पुरना कहते हैं।

उसके उपर पाटा अथवा चौकी रख कर उस पर लाल अथवा पीला कपड़ा बिछाते हैं।

उस कपड़े पर केले के पत्ते को रख कर उस पर मूर्ति की स्थापना की जाती है।

इसके साथ एक पान पर सवा रुपया रख पूजा की सुपारी रखी जाती है।

कलश भी रखा जाता है। कलश के मुख पर लाल धागा या मौली बांधी जाती है। यह कलश पूरे दस दिन तक ऐसे ही रखा जाता है। दसवें दिन इस पर रखे नारियल को फोड़ कर प्रसाद खाया जाता है।

स्थापना वाले दिन सबसे पहले कलश की पूजा की जाती है। जल, कुमकुम, चावल चढ़ा कर पुष्प अर्पित किए जाते हैं।

कलश के बाद गणेश देवता की पूजा की जाती है। उन्हें भी जल चढ़ाकर वस्त्र पहनाए जाते हैं। फिर कुमकुम एवम चावल चढ़ाकर पुष्प समर्पित किए जाते हैं।
गणेश जी को मुख्य रूप से दूर्वा चढ़ाई जाती है।

इसके बाद भोग लगाया जाता है।गणेश जी को मोदक प्रिय होते हैं।

परिवार के साथ आरती की जाती है। इसके बाद प्रसाद वितरित किया जाता है।

गणेश जी की उपासना में गणेश अथर्वशीर्ष का बहुत अधिक महत्व है। इसे रोजाना पढ़ा जाता है। इससे बुद्धि का विकास होता है। यह मुख्य रूप से शांति पाठ है।

हिन्दू धर्म की परंपराएं कमाल की है। कुछ ऐसी ही परंपरा, रीति एवं रिवाज़ों के आध्यात्मिक एवं वैज्ञानिक कारणों से आप को अवगत करवाने की यह छोटी सी कोशिश।

ऐसी ही रोचक जानकारी नित प्राप्त करने के लिए हमारे facebook लिंक
https://www.facebook.com/JayMahakal01/ को like एवं share करें साथ ही twitter एवं instagram पर फॉलो करें @jaymahakaal01 । हमसे जुड़े रहिये और विजिट करते रहिए www.jaymahakaal.com

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *